सर्पासन | Sarpasana

यह आसन सर्प की एक विशेष मुद्रा के अनुरूप होता है, इसलिए इसे सर्पासन कहा जाता है।

विधि-

भूमि पर आसन बिछाकर पेट के बल लेट जाइए दोनों हाथों की उँगलियों को एक-दूसरे में फँसाकर पीछे की ओर खीचें। साँस भरते हुए गर्दन और टाँगों को ऊपर उठाकर पैट के सहारे दाएँ-बाएँ रोल करें। फिर शिथिलासन में विश्राम करें।

ध्यान-

यह एक शारीरिक व्यायाम का आसन है। इसमें ध्यान नही लगाया जाता।

लाभ-

कब्ज, बदहजमी, वायुविकार आदि को दूर करके यह मोटापा कम करता है। पेट को चिकना और सुडौल बनाता है।

सावधानी-

सिर को उत्तर की ओर करके यह आसन न लगाएँ।

1 thought on “सर्पासन | Sarpasana”

  1. Pingback: योगासन सीखें | Learn yoga - Hamar Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
Scroll to Top