ठंड से बचाव के लिए कुछ जरूरी टिप्स | Some Important Tips for Cold Prevention

ठंड से तो बचा जा सकता। ऐसे में क्यों नहीं ऐसे उपाय तलाशें, जिससे शरीर पर ठंड का असर कम हो। इस काम में आपकी मदद करेंगी मौसमी हरी-सब्जियां। ठंड यानि तरह-तरह की सब्जियों वाला मौसम, और बिना किसी चिंता में खूब मेवे खाने का मौसम। पर किसी भी सब्जी के फायदे जाने बिना इन्हें आहार का हिस्सा बनानेे से न आपका भला होने वाला है और न ही आपके परिवार का। हरी ताजी सब्जियां क्यों हैं हमारे लिए फायदेमंद, और कैसे इन्हें शमिल करें आहार में, आइए जानेः

विटामिन्स की पोटली पालक
समय से पहले बढ़ती उम्र की निशानियों को रोकने, आंखों की रोशनी को दुरूस्त रखने, मस्तिष्क से लेकर नर्वस सिस्टम तक को सही तरीके से काम करने में मदद करने और शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने तक में कारगर भूमिका निभाती है हरी-हरी पालक। इसमें पाया जाने वाला एंटी-ऑक्सीडेंट्स कैंसर समेत पेट से जुड़ी समस्याओं में भी राहत पहुंचाता है।
पालक में लगभग सभी तरह के पोषक तत्व जैसे विटामिन-ए, बी, सी, ई, जिंक, मैग्नीशियम, आयरन आदि प्रचुर मात्र में पाए जाते हैं। नियमित रूप से पालक को अपनी डाइट का हिस्सा बनाकर आप अपने शरीर में हिमोग्लोबिन की मात्र को संतुलित रख सकते हैं। इसमें फाइबर भी काफी होता है, जो वजन कम करने में आपकी मदद कर सकता है। पालक को साग के रूप में खाएं या फिर इसे सलाद, सूप, रायत या सब्जी आदि के रूप में खाएं, पोषक तत्वों की कोई कमी नहीं होगी। पालक की पूरी या पराठे भी बेहद स्वादिष्ट लगते हैं।

हड्डियों की सेहत के लिए सरसों का साग
माना कि इस साग को बनाने में थोड़ी ज्यादा मेहनत लगती है, पर सेहत के लिहाज से यह उतना ही ज्यादा फायदेमंद भी है। सरसों के साग कड़वापन जरूर होता है, पर इसका उसके पोषण पर कोई नकारात्मक असर नही पड़ता। इसमें बीटा-कैरोटिन होता है, जिसे शरीर विटामिन-ए में बदलता है, जिसे आंख और हड्डियों की सेहत दुरूस्त होती है। सरसों के साग में फाइटो-न्यूट्रिएंट्रस भी होते हैं, जो शरीर के कई अंगों को फ्री-रैडिकल डैमेज से बचाने का काम करते हैं।

इम्यूनिटी के लिए करामाती चुकंदर
चुकंन्दर न सिर्फ दिखने में खूबसूरत लगता है, बल्कि स्वाद और पोषण के मामले में भी यह लाजवाब है। इसमें आयरन, विटामिन-ए, बी-6, विटामिन-सी और कई जरूरी मिनरल्स होते हैं। डायबिटीज, मोटापा और दिल की बीमारियों से बचने के साथ ही चुकंदर व्हाइट ब्लड सेल्स को बढ़ाने का काम भी करता है। यह हमारे शरीर की रोग-प्रतिरोधी क्षमता को मजबूत बनाने के साथ रक्तचाप को संतुलित रखने में भी मददगार साबित होता है।
एक अध्ययन के मुताबित, चुकन्दर का जूस पीने से शारीरिक मजबूती आती है। इसमें कैलोरी कम होती है। इसलिए इसे स्मूथी, डिप्स और सलाद आदि का हिस्सा बनाकर आप अपने वजन को आसानी से नियंत्रित रख सकते हैं।

असरदार शकरकंद
आसानी से सालभर उपलब्ध होने वाली शकरकंद मैग्नीशियम का अच्छा स्त्रेत होती है, जो तनाव में राहत देती है, जिसकी इन दिनों सबसे ज्यादा जरूरत है। विटामिन-ए, बी6, सी और एंटी-ऑक्सीडेंट्स से प्रचुर मात्र में होता है, जिसको खाने के बाद पेट काफी देर तक भरा हुआ महसूस होता है। साथ ही कब्ज, हार्टअटैक और सर्दी-जुकाम से बचने में भी मददगार होती है।
मूली है जरूरी
सफेद मूली पोटैशियम, सोडियम, विटामिन-सी और मैग्नीशियम का खजाना है। इसमें पानी खूब होता है और कैलोरी बेहद कम। शरीर के तंत्रिका तंत्र को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करने के साथ मूली फुलू, कैंसर और दिल की बीमारियों के लक्षण को दूर रखने में भी मददगार है। आप इसे सलाद, परांठा या सब्जी के रूप में अपनी डाइट का हिस्सा बना सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
Scroll to Top