बरमूडा त्रिभुज का अदभूत रहस्य | The Amazing Mystery of the Bermuda Triangle

रहस्‍य से भरी इस दुनिया में आज भी ऐसी कई रहस्‍यमई चीजे हैं जिनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है, यानि आधुनिक विज्ञान आजतक इस रहस्‍य को समझ नहीं सका। ऐसे ही एक अदभूत रहस्‍यों से भरी Bermuda Triangle के बारे में जानने वाले है। तो चलिए इस लेख में Bermuda Triangle से जुड़ी रहस्यों को अब उजागर करते हैं। बरमूडा त्रिभुज में घटी कुछ बेहद ही खतरनाक एवं चौंका देने वाली घटनाओं के बारे में जानेंगे।

Bermuda Triangle दुनिया के उन जगहों में से है जहाँ वैज्ञानिक चाहकर भी पता नहीं लगा पा रहे है की आखिर वहाँ हो क्या रहा है? ऐसी रहस्यमई जगह जहां विज्ञान को सोचने पर मजबूर कर देती है। इन सब घटनाओं के बाद कोई भी इस जगहों पर जाने कि हिम्मत नहीं करता है। 

बरमूडा त्रिभुज है क्या? | What is the Bermuda Triangle?

Bermuda Triangle एक तरह का त्रिकोणिय समुद्री इलाका हैं, जो उत्तरी अटलांटिक ओशन में मौजूद हैं। वैसे यह त्रिकोणिय इलाका बरमूडा द्वीप, प्यूर्तो रिको और अमेरिकी राज्य फ्लॉरिडा के अंदर हैं। इस त्रिकोणिय इलाके को ही Bermuda Triangle कहा जाता हैं।

इस त्रिकोणिय इलाके में आने वाली कई सारे जहाज बहुत ही रहस्यमयी तरीकों से गायब हो जाते हैं। उसके गायब होने के बाद कुछ भी पता नहीं चलता हैं। वह कहां जाता है, उसके साथ क्‍या होता है, इसके बारे में किसी को भी पता नहीं चलता। यह एक बहुत आश्‍चर्यजनक विषय बना हुआ है। इस अजीबो-गरीब घटना को देखकर विज्ञानिक भी हैरान हैं। आगे इस लेख में कुछ ऐसी घटनाओं के बारे में जानेंगे जो बेहद ही आश्‍चर्यजनक है।

1. एलेन ऑस्टिन का रहस्‍यमई तरीके से गायब हो जाना  | Ellen Austin’s mysterious disappearance

एलेन ऑस्टिन नाम का एक ब्रिटिश समुद्री जहाज वर्ष 1880 में लंदन से न्यूयॉर्क की ओर जा रहा था। यह कहा जाता है की उस जहाज में उस वक़्त कई सारे लोग मौजूद थे जब यह आखिरी बार अपने सफर के लिए निकला था। वह जहाज को लंदन से न्यूयॉर्क के बीच सफर करते वक़्त बरमूडा त्रिभुज इलाके में उसे आखिरी बार देखा गया था। उसके बाद उस जहाज का कोई पता नहीं चल पाया की वह फिर कहां गायब हो गया। जो आजतक एक अनसुलझी रहस्‍य है। 

https://hamarhindi.com/2021/06/%e0%a4%ac%e0%a4%b0%e0%a4%ae%e0%a5%82%e0%a4%a1%e0%a4%be-%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%ad%e0%a5%81%e0%a4%9c-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%85%e0%a4%a6%e0%a4%ad%e0%a5%82%e0%a4%a4-%e0%a4%b0/

2. फ्लाइट-19 युद्धक विमान को भी निगल गया | Flight-19 also swallowed the warplane

पांच अमेरिकी युद्धक विमानों फ्लाइट-19 के बेड़े को बरमूडा त्रिभुज ने साल 1945 में भी निगल गया था। ये युद्धक विमान युद्धक अभ्‍यास करने के लिए उड़ान भरे थे पर वे बरमूडा त्रिभुज से कहां गायब हो गये आजतक पता नहीं चल पाया और न हीं उसे बारे में किसी को जानकारी मिली यह जहाज दुवारा कहीं नहीं देखा गया।

फ्लाइट-19 को आखिरी बार Bermuda Triangle के पास देखा गया था, उसके बाद न तो उसका कोई पता चला, न हीं उस जहाज का मलबा देखने को मिला। उसके बाद फ्लाइट-19 को खोजने के लिए एक बचाव दल को भी भेजा गया जो उस क्षेत्र से कहां गायब हो गया यह एक अनसुलझा रहस्‍य बनकर रह गया।

3. डगलस डीसी-3 यात्री-विमान का रहस्‍यमय तरीके से गायब होना  | The mysterious disappearance of a Douglas DC-3 passenger plane

डगलस डीसी-३ जो एक यात्री-विमान था जो साल 1948 में प्यूर्तो-रिको से मियामी को जाने के लिए चली थी। यह विमान जब बरमूडा त्रिभुज के पास पहुंचा तो अचानक से गायब हो जाना एक रहस्‍यमय घटना को दर्शाता है। डगलस डीसी-३ जहाज के अंदर 32 यात्रिया सवार थे, जिसके बारे में कहा जाता है कि वे जहाज के साथ कहां गायब हो गये, उनका आजतक कुछ पता नहीं चला। ऐसे ही कई चीजों को रहस्‍यमय तरीके से गायब होने की घटना को हम सभी को सोचने को मजबूर करता है। आखिर ऐसी कौन सी शक्ति है जो आज भी वैज्ञानिक से परे है।

4. अमेरिकी नौ-सेना माल वाहक जहाज के साथ भी अजीबो-गरीब घटना | Strange incident with US Navy cargo ship

अमेरिका का एक नौ-सेना माल वाहक जहाज, जिसका नाम यूएसएस साइक्लोप्स, जो एक बहुत बड़ा माल वाहक जहाज था। जो साल 1918 में मांगानीज़ नाम के खनीज को ले जा रहा था। जो बहुत ही रहस्‍यमय तरीके से बरमूडा त्रिभुज के पास जाते ही उसमें समा गया। वैसे इस जहाज का एक इंजन वहां जाने से पहले ही काम करना बंद कर दिया था। इस जहाज पर 309 लोग सवार थे। जो जहाज के साथ न जाने कहां चले गये जो आज भी रहस्‍य के पर्दे से ढ्का हुआ है।

बरमूडा त्रिभुज का अदभूत रहस्य!  | The Amazing Mystery of the Bermuda Triangle!

5. डर्बीशर के साथ भी रहस्‍यमय घटना | Mysterious incident with Derbyshire

डर्बीशर नाम का जहाज जो कि 8 सितम्बर, 1980 को 150,000 टन लोहे के साथ अपने लक्ष्‍य की ओर आगे बढ़ रहा था, डर्बीशर जहाज जो कि टाइटैनिक से भी दो गुना बड़ा और बहुत ही विख्यात था। इस शक्तिशाली जहाज को कुछ हो सकता है यह कोई सपने में भी नहीं सोच सकता था। लेकिन बरमूडा त्रिभुज के सामने एक न चली। यह घटना 9 सितम्बर, 1980 की है जब Derbyshire जहाज और इसमें मौजूद लोग एक रहस्मय तरीके से बरमूडा त्रिभुज के पास से गायब हो गए। उस समय यह ब्रिटेन की सबसे बड़ी जहाज माना जाता था। किसी को पता तक नहीं चला की यह जहाज के साथ क्‍या हुआ और कहां गया। इस जहाज के बारे में भी आजतक पता नहीं चल पाया और यह एक अनसुलझी रहस्‍य बन कर रह गई।        

बरमूडा त्रिभुज के बारे में वैज्ञानिक क्‍या कहते है।

इस रहस्मय जगह पर हजारों समुद्री जहाज और हवाई जहाज गायब हुए है। इतने सारी जहाज गायब होने की घटनाओं को देखकर, हर किसी को लगता था की इस जगह पर जाकर इसकी खोज करनी चाहिए। इसी को देखते हुए, जापान की एक सरकारी जहाज को भेजा गया था यह जाँच करने के लिए की जहाज आखिर जाती कहाँ है? बहुत सारे देशों ने मिलकर कई रिसर्च टीम को बुलाया भी जिसमें 100 से भी ज्यादा वैज्ञानिकों टीम थी। वह जहाज पूरी तैयारी के साथ गई तो थी, पर वापस कभी नहीं आई। और कहाँ चली गई किसी को पता तक नहीं चल पाया। रिसर्च करने वाली टीम भी वहाँ से गायब हो गई। 

उसके बाद से किसी भी देश की सरकारें उस जगह पर जहाजे भेजने की हिम्‍मत नहीं कर पाई। उसके बाद से इस जगह को आधिकारिक तौर पर डेंजर जोन घोषित कर दिया गया। जिसे समझना वैज्ञानिकों की भी बस की बात नहीं है। बिना उस जगह जाए सिर्फ सेटेलाइट और मैप के द्वारा उस जगह की रिसर्च की गई। तब यह पता चला की यह बिलकुल त्रिभुज की तरह एक त्रिकोण बनाती है। सबसे अजीब बात यह है की यह बिलकुल उसी संरेखित स्थिति में मौजूद है जहाँ बरमूडा त्रिभुज है। इसी के चलते यह माना जाता है की इन दोनों जगहों का आपस में कोई कनेक्शन है। कुछ वैज्ञानिक कहते हैं की यहाँ पर मौजूद शक्तिशाली चुंबकीय क्षेत्र की वजह से कंपस में होने वाली बदलाव ही जहाजों के खोने का कारण हैं, तो कुछ वैज्ञानिक यहाँ पर हो रहे प्रतिकूल वायुमंडलीय परिवर्तन को दुर्घटनाओं का कारण मानते हैं। खैर जो भी हो वैज्ञानिक अपने अनुभवों के आधार पर जो भी कहे लेकिन यह तो एक रहस्‍य ही बना हुआ है। वैसे तो हजारों घटनाएं इस जगह पर हुई है। लेकिन उन सभी का उल्‍लेख्‍य इस लेख में नहीं किया जा सकता। लेकिन कुछ प्रमुख घटनाएं हैं जो आपके सामने दर्शाया गया है।

 

इसको भी पढ़े :  भारत के प्रमुख विश्व विरासत स्थल | World Heritage Sites of India

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
Scroll to Top